Home JANKRITI ISSUE 2020 JANKRITI ISSUE 65
Sale!

JANKRITI ISSUE 65

50.00

जनकृति का 65वां अंक आप सभी के समक्ष प्रस्तुत है। इस अंक में आप विविध क्षेत्रों से नवीन विषयों पर आधारित लेख व शोध आलेख पढ़ सकते हैं।

Quick Checkout
Categories: , Tag:

Description

क्रमांक विषय पृष्ठ संख्या
1. Gender, Women Empowerment and Human Development: JUGNU ARA 12-17
2. Dr. Ambedkar’s dream of the ‘intellectual class’ in Annihilation of Caste: –            Dharmaraj Kumar 18-29
3.

 

नक्सलवादी आन्दोलन और हिंदी की प्रमुख लघु पत्रिकाएं (1950 से 1980 के विशेष संदर्भ में):

डॉ. निकिता जैन

30-41
4. काव्यानुवाद का समाजशास्त्र: प्रा.सुभद्रा कुमारी सिन्हा 42-47
5. कबीर के काव्य में पारिभाषिक शब्दावली और अनुवाद: प्रदीप कुमार यादव 48-50
6. बिहिश्ती जेवर  और उसका शैक्षिक निहितार्थ: अब्दुल अहद 51-57
7. बिहार के दलित लोकगाथा ‘नटुआ नाच’ के प्रदर्शन में प्रतिरोध की भूमिका: रोहित कुमार 58-62
8. ‘आल्हा’ में लोक संस्कृति: पूनम गुप्ता 63-66
9. स्त्री विमर्श के संदर्भ में गिरीश करनाड़  का नाटक नागमण्डल: डॉ. स्वाति सोनल 67-75
10. दलित उपन्यासों का सांस्कृतिक पक्ष: डॉ. शिव कुमार रविदास 76-80
11. अवधी मुहावरों एवं पहेलियों (बुझौव्वल) में अभिव्यक्त स्त्री-छवियाँ: सरस्वती मिश्र 81-85
12. मोहनदास नैमिशराय के उपन्यासों में स्त्री विमर्श: उपेन्द्र कुमार 86-90
13. एक जमीन अपनी : स्त्री जीवन का बदलता स्वरूप रचती भाषा सुलभ रचना: आशु मंडोरा 91-94
14. फणीश्वरनाथ ‘रेणु’ का रिपोर्ताज ‘नेपाली क्रांति-कथा’ :

स्पर्श-चाक्षुष-दृश्य बिंब की लय का बखान- अमरेन्द्र कुमार शर्मा

95-108
15. धूमिल की कविताओं का ध्वनि स्तरीय शैलीचिह्नक विश्लेषण: सुशील कुमार 109-122
16. डायस्पोरा का गृहभूमि पर चुनावी और गैर चुनावी राजनीतिक प्रभाव और इसके माध्यम: अखिलेश कुमार सिंह 123-129
17. ‘कामायनी’ में आधुनिकता के आभिलक्षण: दीप्ति मिश्रा 130-138
18. नई कहानी के परिप्रेक्ष्य में ‘वापसी’ कहानी का मूल्यांकन: श्रुति ओझा 139-145
19. प्रेमचंद की कहानियों में खेल जीवन की उपस्थिति और उसका स्वरूप: जैनेन्द्र कुमार 146-150
20. उत्तर-पूर्व के समाज मे भारतीय सांस्कृतिक  परंपरा: डॉ. अनुप्रिया 151-160
21. हिंदी कथा साहित्‍य पर गांधी-दर्शन का प्रभाव: डॉ. मेनका कुमारी 161-165
22. धर्म और सांप्रदायिकता के चलते बदलते इतिहास के मायने: दिनेश कुमार पाल 166-172
23. सांप्रदायिकता का रचनात्मक प्रतिरोध: डॉ. रवि रंजन 173-181
24. कात्यायनी की काव्य संवेदना: डॉ. कुमारी सीमा 182-188

 

 

 

 

क्रमांक विषय पृष्ठ संख्या
25. नए आलोचकों के लिए आईना: डॉ. भारती कुमारी 189-194
26. रचना प्रक्रिया और प्रेमचंद (संदर्भ-साहित्य का उद्देश्य (निबंध): शिखा 195-198
27. रामवचन राय : व्यक्तित्व और रचना-संसार: डॉ. सावन कुमार 199-204
28. मध्यकालीन संस्कृति में संत नामदेव की उपादेयता: जगदाले अप्पासाहेब गोरक्ष 205-209
29. विद्यासागर नौटियाल की कहानियों में पहाड़ी जीवन का यथार्थ: मोनिका पन्त 210-215
30. क्रांति की अवधारणा और संबंधित साहित्य: सच्चिदानंद सिंह 216-222
31. बाल साहित्य की विशेषताएं: डॉ. कुमारी उर्वशी 223-227
  साहित्यिक रचनाएँ (कविता)  
32. डॉक्टर सोनी पाण्डेय की रचना 228
33. मोनिका वर्मा की कविता 229
  साहित्यिक रचनाएँ (ग़ज़ल)  
34. आशा पांडेय ओझा की ग़ज़लें 230-232
  साहित्यिक रचनाएँ (कहानी)  
35. चंद्रकांत: सुशांत सुप्रिय 233-236
  साहित्यिक रचनाएँ (लघुकथा)  
36. अधिनायक: सीताराम गुप्ता 237-238

Reviews

There are no reviews yet.

Be the first to review “JANKRITI ISSUE 65”

You may also like…

0
    0
    Your Cart
    Your cart is emptyReturn to Shop