Home JANKRITI ISSUE 2022 JANKRITI ISSUE 86
Sale!

JANKRITI ISSUE 86

Original price was: ₹150.00.Current price is: ₹60.00.

आप सभी पाठकों के समक्ष जनकृति का जून 2022 अंक प्रस्तुत है। इस अंक में आप साहित्य, कला, इतिहास, संस्कृति इत्यादि क्षेत्रों के महत्वपूर्ण विषयों पर आधारित शोध आलेख, लेख पढ़ सकते हैं। इसके अतिरिक्त अंक में आप साहित्यिक रचनाएँ भी पढ़ सकते हैं।

Quick Checkout
Categories: , Tag:

Description

जनकृति – वर्ष 8, अंक 86, जून 2022 – विषय सूची 

संपादकीय 4

कला-विमर्श  
विक्टोरियो डी सिका का सिने नवयथार्थवाद और उसका प्रभाव / डॉ. सुरभि विप्लव   8
स्वातंत्र्योत्तर भारत में हिंदी नाटकों के रंगमंच का बदलता स्वरूप / आरती शर्मा 16
सफ़दर हाशमी के नुक्कड़ नाटकों में शोषण के विरुद्ध प्रतिरोधात्मक स्वर / निशाबेन एन. ठाकोर 27
वर्तमान परिदृश्य और लोक नृत्य ‘लौंडा नाच’ का बदलता स्वरूप / आशा 36

दलित एवं आदिवासी-विमर्श   
हरियाणा की अनुसूचित जातियों के उत्थान हेतु केंद्र एवं राज्य सरकारों द्वारा किए गए प्रावधानों का विश्लेषण / दीपक 47
वर्ण व्यवस्था के बंधन तोड़ती दलित आत्मकथाएं / निर्मल सुवासिया 63
आदिवासी संस्कृति (कहानियों के संदर्भ में) / प्रियंका देऊ वेळीप  72
पूर्वोत्तर भारत के अल्पसंख्यक आदिवासी समुदाय / वीरेन्द्र परमार  78

स्त्री-विमर्श 
पंचायती राज व्यवस्था में 50 प्रतिशत आरक्षण:  महिला सशक्तिकरण की नई पहल
(विशेष सन्दर्भ :हिमाचल प्रदेश)/ प्रीति 89
भारत विभाजन की त्रासदी का लैंगिक परिप्रेक्ष्य में अध्ययन / सुकान्त सुमन 99
‘नयी पौध’ में बेमेल विवाह की समस्या / ज्योति 112
‘माधवी’: पुरुषार्थ और मान्यताएँ / मेघा 120

शिक्षा-विमर्श   
रूसो की शिक्षा संबंधी चेतना;  संपूर्ण विकास की परिकल्पना / डॉ. मायानंद उपाध्याय, अंकुर सहाय श्रीवास्तव 133

किन्नर-विमर्श   
‘यमदीप’ उपन्यास में अभिव्यक्त किन्नर समाज का यथार्थ / कृतिका चौधरी 138

मीडिया-विमर्श   
मीडिया साक्षरता की आवश्यकता / राजेन्द्र सिंह क्वीरा 145

राजनीतिक-विमर्श
भारत-इजरायल द्विपक्षीय संबंध: बदलते सुरक्षा आयाम / अमित कुमार सिंह 157
अनुच्छेद 370 - भारत पर पहले और बाद में प्रभाव और अनिवार्यताएं / रवि कुमार 168
Status of Women in Panchayati Raj System: A Case Study of Jharkhand/
 Dr. Suchi Santosh Barwar 179
भारत की संघीय ढांचे में संसदीय लोकतंत्र की भूमिका: चुनौतियां और संभावनाएं / दीपंकर दे 198
राष्ट्रवाद का विमर्श और प्रवासी भारतीय / राकेश कुमार 209
पॉल रिचर्ड ब्रास: भारतीय राजनीति के विपुल एवं बहुकृतिक विद्वान / जया ओझा 225

साहित्यिक-विमर्श
किसान विमर्श : ‘अकाल में उत्सव’ के विशेष सन्दर्भ में / धन राज 230
पृथक्कृत ताहिर, कुबरा, सुगरा, गीता...-  अमृता सी. एस./ प्रोफ. प्रभाकरन हेब्बार इल्लत 236
विकास का छद्म: एक गाँव फुलझर / डॉ. मिथिलेश कुमारी 252
“अपना गाँव” एक नयी जमीन की तलाश/ डॉ. बिजय कुमार रबिदास 260
रेणु की कहानियों की जीवंतता को विश्लेषित करते पात्र / चन्दा सागर 274
समग्र मानवीय दृष्टि का वाहक एक विशिष्ट कथा-शिल्पी: निर्मल वर्मा की नज़र से ‘रेणु’ /
डॉ. संगीता कुमारी 284
गोपालराम गहमरी : कुछ प्रश्न, कुछ विचार / गौरव भारती 294
गोरा : राष्ट्रवाद एक अध्ययन / कमरूज़मा अंसारी 301
दस्यु समस्या पर आधारित उपन्यास ‘डांग’/ डॉ. उमा मीणा 310
नयी कविता का मूल्यांकन और विजयदेव नारायण साही की आलोचना-दृष्टि/ कादिर हुसैन 326
पं. वंशीधर शुक्ल: व्यक्तित्व एवं कृतित्व / आशुतोष 337
भारतेंदु की आलोचना दृष्टि / विवेक विक्रम सिंह 347
वीरकाव्य: सृजन की परम्परा एवं प्रयोजन / प्रियंका सिंह 354
किसान के चतुर्मुखी शोषण का यथार्थ दस्तावेज : होरी / डा. मनीषा ठक्कर 375
सूरदास का काव्य: लोक जीवन के अनुभवों की रागात्मक परिणति / अनिल कुमार 382
स्त्री चेतना और मीरा का काव्य / संचना 393

प्रवासी साहित्य 
न भेज्यो बिदेस: प्रवासी स्त्री के जीवन का यथार्थ / शालू  403
भारतीय संस्कृति बनाम् पाश्चात्य संस्कृति का अंतर्द्वंद्व और प्रवासी हिंदी कविता/ योगेन्द्र सिंह, प्रो॰ नवीन चंद्र लोहनी  411

समसामयिक-विमर्श 
भूमंडलीकरण का वैश्विक सन्दर्भ/ श्रीकांत पाण्डेय 427
धर्म एवं संस्कृति 
दक्षिण काशीगा, एकम्बरेश्वरम: तेलंगाना राज्य के प्रसिद्ध मंदिर / सुनंदा ठाकुर, सज्जन सिंह पी 439
श्रीराम के गुणों के परिप्रेक्ष्य मे राजर्षि नेतृत्व शैली का अध्ययन / डॉ.  दिनेश कुमार, दिव्यान्शु सिंह 444

आलेख
कोका किंगः एक विमर्श / नन्दकिशोर नीलम  460

साक्षात्कार 
लोक कला और साहित्य के मर्मज्ञ प्रो. शैलेन्द्र कुमार शर्मा से ललित कुमार सिंह की बातचीत 473

साहित्यिक रचनाएँ
कविता
आलोक रंजन 482

कहानी
हस्बेमामूल/ राम नगीना मौर्य 485
जो तुम कह देते एक बार / मनीषा 495

पुस्तक समीक्षा
समाज के यथार्थ को दिखाती कहानियाँ (पुस्तक – हाथ ओ उग ही आते हैं, लेखक- प्रो. श्यौराज सिंह ‘बेचैन’)/ समीक्षक: प्रिया राज 506
साहित्यिक चोरी का दस्तावेज़: छापकटैया (लेखक: प्रो.राजेंद्र बड़गूजर) / समीक्षक: रश्मि सिंह 512