जनकृति । JANKRITI

अंतरानुशासनिक पूर्व- समीक्षित द्विभाषी अंतरराष्ट्रीय मासिक पत्रिका । Interdisciplinary Peer-Reviewed Bilingual International Monthly Magazine

About us । परिचय

अंतरानुशासनिक पूर्व- समीक्षित द्विभाषी अंतरराष्ट्रीय मासिक पत्रिका (ISSN: 2454-2725)

जनकृति अंतरानुशासनिक पूर्व-समीक्षित (PEER REVIEWED) द्विभाषी अंतरराष्ट्रीय मासिक पत्रिका है। यह एक अव्यावसायिक है जिसका प्रकाशन जनकृति संस्था द्वारा किया जाता है। पत्रिका का प्रकाशन मार्च 2015 से प्राम्भ हुआ और यह पूर्ण रूप से विमर्श केन्द्रित पत्रिका है, जहां विभिन्न क्षेत्रों के विविध विषयों को एक साथ पढ़ सकते हैं। पत्रिका में एक ओर जहां साहित्य की विविध विधाओं में रचनाएँ प्रकाशित की जाती है वहीं साहित्य, कला,  इतिहास, राजनीतिक विज्ञान से जुड़े शोध आलेख, आलेख, साक्षात्कार इत्यादि  प्रकाशित किए जाते हैं। 

अकादमिक क्षेत्र में शोध की गुणवत्ता को ध्यान में रखते हुए अंतरराष्ट्रीय मानकों के अनृरूप पत्रिका में शोध आलेख प्रकाशित किए जाते हैं। शोध आलेखों का चयन विभिन्न क्षेत्रों के विषय विशेषज्ञों द्वारा किया जाता है, जो विषय की नवीनता, मौलिकता, तथ्य इत्यादि के आधार पर चयन करते हैं।

जनकृति के माध्यम से हम सृजनात्मक, वैचारिक वातावरण के निर्माण हेतु प्रतिबद्ध है। 

Sale!
Sale!

JANKRITI ISSUE 81

50.00
Sale!

JANKRITI ISSUE 71

50.00
Sale!

JANKRITI ISSUE 72-73

50.00
Sale!

JANKRITI ISSUE 74

50.00
Sale!

JANKRITI ISSUE 75

50.00
Sale!

JANKRITI ISSUE 76-77

50.00
Sale!
Sale!
Sale!
Sale!

JANKRITI 2021 ISSUE

200.00

जनकृति ब्लॉग । Jankriti Blog

स्वतंत्र लेखकों द्वारा लिखित । Written by freelance writers

ब्लॉग गतिविधि

More

    साहित्यिक रचनाएँ: कविता

    गीतांजलि श्री को मिला वर्ष 2022 का अंतरराष्ट्रीय बुकर सम्मान

    बुकर प्राइज़ 2022: गीतांजलि श्री आज समस्त हिन्दी भाषियों के लिए गर्व का दिन है क्योंकि गीतांजलि श्री जी को उनके उपन्यास 'रेत समाधि'...
    a person sitting on wooden planks across the lake scenery

    प्रेम नहीं प्रताड़ना

    प्रेम को प्रताड़ित करने वाले को कभी समझ नहीं आएगा प्रेम उसे सुनाई नहीं देंगी सिसकियाँ.. दिखाई नहीं देंगें आंसुओं के निशान देह - आत्मा जब दंशों...
    Land art project 'Crossing'.

    एहसास

                                     एहसान बारिश पड़ने के कारण उसने गीले कपड़े ही...

    हरीश सुवासिया की कविताएं

    1 सच तो सच है । " तुम वादा करके अगर किसी दिन भले मुकर जाओ फिर अगले ही दिन दस बीस लोग जमाकर बता दो या बिफर पड़ो ! किसी एक मसले पर तुम्हारा...

    दो कविताएं

     कविताएं सच तो सच है । " तुम वादा करके अगर किसी दिन भले मुकर जाओ फिर अगले ही दिन दस बीस लोग जमाकर बता दो या बिफर पड़ो...

    विश्व मधुमक्खी दिवस

    विश्व मधुमक्खी दिवस एक सुक्ष्म से कीट की विराटता अल्प से जीवन में रच देना मधु शाश्वत रहता है शहद मधुमक्खियों की शिद्दत यही एक कीट को ही मिला...
    0
      0
      Your Cart
      Your cart is emptyReturn to Shop