Tag Archives: श्रम प्रवसन

D:\laptop Data\jankriti patrika august\extra\पूर्व अंक\depositphotos_89589586-stock-illustration-immigration-crowd-of-people.jpg

भोजपुरी लोकगीतों में पलायन-डॉ. जितेंद्र कुमार यादव

January 14th, 2021

प्रवास को भोजपुरी समाज ने जीवन जीने की तकनीक के रूप मे विकसित किया था। जाहिर है कि आज भी भोजपुरी प्रदेश में व्यापक पैमाने पर श्रम-प्रवसन जारी है। इस इलाके की निम्नवर्गीय जातियां जीने के लिए आज भी दौड़ रही हैं और जब तक दौड़ रही हैं तभी तक जी भी रही हैं। यह दौड़ उनके जीवन का पर्याय बनी हुई है।