Tag Archives: स्त्री

C:\Users\Hp\Desktop\sketch\girl-2022820_640.jpg

भारतीय सिनेमा वाया स्त्री विमर्श – तेजस पूनिया

January 24th, 2021

फिल्मों ने स्त्री जीवन के पारिवारिक और सामाजिक सवालों को ही नहीं उठाया है बल्कि राजनीतिक सवालों को भी उठाया है। उदाहरण के तौर पर स्त्री जीवन पर केंद्रित कुछ ऐसी फिल्में हैं, जिनका ज़िक्र लाज़मी है– ‘सूरज का सातवाँ घोड़ा’, ‘दामिनी’, ‘बेंडिट क्वीन’, ‘मम्मो’, ‘फायर’, ‘सरदारी बेगम’, ‘मृत्युदंड’, ‘गॉड मदर’, ‘हरी-भरी’, ‘गजगामिनी’, ‘अस्तित्व’, ‘जुबैदा’, ‘क्या कहना’, ‘चांदनी बार’, ‘ज़ख्म’, ‘फिज़ा’ आदि में स्त्री जीवन को महत्वपूर्ण ढंग से अभिव्यक्त किया गया है।

C:\Users\Hp\Desktop\sketch\eye-4453129_640.jpg

यथार्थ के आईने में स्त्री-मधुमिता ओझा

January 24th, 2021

स्त्री की अपनी इच्छाएं, जीवन के प्रति उसके अपने एप्रोच को तवज्जु दिए बगैर न तो स्त्री को समझा जा सकता है, न जेंडर समानता को, न स्त्री के प्रेम को और न ही स्त्री-विमर्श को। स्त्री-विमर्श को समझने के लिए स्त्री की ऑटोनोमी को समझना अनिवार्य है। यही कारण है कि लेखिका स्त्री को उसकी स्वायत्तता के प्रति जागरूक करती हैं।

D:\laptop Data\jankriti patrika august\extra\पूर्व अंक\200d57b9520f4d21c4d49b98aefddcb4.jpg

सत्ता, संस्कृति और स्त्री की स्वाधीनता-डॉ. मिथिलेश कुमारी

January 24th, 2021

स्त्री की आज़ादी का प्रश्न समाज से कटा हुआ नहीं है। यह जितना स्त्रियों के सहज और सरल जीवन-यापन के लिए ज़रूरी है उतना ही सम्पूर्ण समाज के लिए भी। इस शोध-पत्र में सत्ता और संस्कृति के अंतर्संबंधों को स्त्री आज़ादी के परिप्रेक्ष्य में देखने की कोशिश की गयी है।