inbound2024571344792625015.jpg

ज़िन्दगी अपने ही वसूलों पर

चलती हैं…

कब किसकी सुनती है…?

कभी फूलों सा महकती है तो कभी कांटों सा चुभती हैं…🍁